संदेश

January, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

गणतंत्र दिवस और देशवासियों को हमारी शुभ कामनाऐ

चित्र
आज 26/01/2010गणतंत्रदिवस है जिस के समारोह कार्यक्रम में देश की सैन्य ताकत, समृद्धि और सांस्कृतिक विविधता का नज़ारा देखने को मिला और यह हमारा हक है कि हम अपनी ताकत और शक्ति का प्रदर्शन करे, अपनी संस्कृति-रीती- रवाज से दुनिया को परिचय करवाए और प्राचीन-समृद्ध संस्कृति और सभ्यता से खुद को जोड़े रखते हुए विश्व शक्ति के उच्च स्थान पर ब्राजमान हो, यही हमारी खाहिश और ईश्वर से दुआ भी
आजादी के बाद जिन लोगों को सत्ता मिली वे स्वाधीनता आंदोलन से जुड़े ऊंचे आदर्शो और मूल्यों वाले नेता थे। उनके नेतृत्व में देश के विकास के लिए कई बुनियादी कार्य किए गए, लेकिन दूसरी पीढ़ी के नेताओं और उस के बाद के नेताओं के हाथ में सत्ता आते ही मूल्यों और आदर्शो के उल्लंघन का जो सिलसिला शुरू हुआ, वह जारी है और बिते समय के साथ अधिक से अधिकतम हो रहा है।
हमारे ऊंचे आदर्शो और मूल्यों वाले नेताओं ने जो अनूठा संविधान का निर्माण किया और जो उनका सपना था उस की एक झलक आप को दिखाता हूँ,
पंडित जवाहर लाल नेहरू ने एक बार संविधान सभा में कहा था कि " मैं आशा करता हूं कि जो संविधान सभा बनाने जा रही है, वह भूखों को रोटी, वस्त्रहीनों…