संदेश

April, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ईमान के अरकान (स्तम्भ) का क्या अर्थ है ?

इस्लाम अपने सर्व आज्ञा तथा व्यवहार में अन्य सम्पूर्ण धर्मों से एकाइ और उत्तम है। इसी तरह आस्था के बारे में एक अलग सथान रखता है। इस्लामी आस्था जीवन की नीव है। नीव जितनी गहरी और कठोर होगी, इस्लामी इमारत उतनी ही अधिक मज़बूत और ठोस होगी, जिस तरह नीव के बिना कोई बिल्डिंग ठहर नही सकती, ठीक इसी तरह इस्लामी आस्था के बिना जीवन का कोई मूल नही, इन्सानी अंगों में सर को जो महत्वपूर्णता प्राप्त है इसी तरह ईमान की महत्वपूर्णता इस्लामी जीवन में हैं। इस्लाम अपने सर्व सिक्षानुसार उत्तम और बेहतरीन है।

इस लिए अल्लाह तआला ने खुले शब्दों में ईमान की सर्वशेष्टा बयान किया है और इन्सान के सम्पूर्ण अच्छे कर्मों को ईमान पर आधारित बताया है कि मानव को अच्छे कर्मों का बदला उसी समय हासिल होगा जबकि वह ईमान वाला होगा। जैसाकि अल्लाह तआला ने पवित्र क़ुरआन में फरमाया है।
" من عمل صالحا من ذكرأو أنثى وهو مؤمن فلنحيينه حياة طيبة ولنجزينه أجرهم بأحسن ما كانوا يعملون" [النحل: 97]
इस आयत का अर्थः “ जो व्यक्ति भी अच्छा कर्म करेगा चाहे वह मर्द हो या औरत शर्त यह है कि वह मोमिन हो, उसे हम दुनिया में पवित्र जीवनयापन करा…

भ्रष्टाचार और हमारा देश

चित्र
भ्रष्टाचार वह घातक रोग है जो हमारे समाज में बुरी तरह परवेश हो गया है। जिस का इलाज बहुत अनिवार्य हो गया है। राजनेताओं की दहशत गरदी, सरकारी करमचारियों की ताना शाही और भ्रष्टाचार में लिप्त होना और पुलिस वालों की गुंडा गर्दी तो आम बात है ( कुछ ईमानदार व्यक्तियों के अलावा जिन्की संख्या बहुत कम है जैसे खाने में नमक) तो ऐसे लोगों पर लगाम कैसे लगाया जाए जो अपने पद और शक्ति का दुर्उपयोग करते हैं। जब लोकपाल बिल पर नजर डालते हैं तो इस में बहुत कुछ ऐसा है जिस से भ्रष्टाचार, और जो अपने पद और शक्ति का दुर्उपयोग करते हैं, उन्हें सज़ा दी जासके, उन्हें डंडित किया जासके और वह भी तुरंत ताकि वह किसी प्रकार का अपराध करने थर्राए और ईश्वर का भय तो नहीं, परन्तु इस कमिशन का भय तो रहे।

लेकिन इस विभाग को बेईमान व्यक्तियों के साये से बचाना होगा, नेताओं के सहारे से मुक्त करना होगा, समाज दुश्मन तटों से सुरक्षित रखना होगा,
यदि अन्ना हजारे साहाब का 'देशद्रोहियों' तथा भ्रष्टाचार के खिलाफ यह आमरण अनशन निःस्वार्थ है , हमारे प्रिय देश के उन्नति और समाज सेवा के उपदेश के लिए है, तो हम उन्हें समाल करते हैं और समर…

बधाई और कल्याण

चित्र
बहुत बहुत बधाई और शुभ कामनाएं हो हमारी भारतीय क्रिकेट टीम को जिन्हों ने विश्व चैंपियन बन कर पूरे विश्व में हमारे भारत का नाम रोशन किया। 28 वर्ष बाद दो बारा इस विश्व कप पर कब्जा किया जो हम सब भरती के लिए गर्व की बात है जिस के लिए खिलाड़ियों को सम्मान किया जान चाहिये, पुरसकार दिय जाना चिहिये। जिसकी शुरुआत सबसे पहले बीसीसीआई ने टीम के हर खिलाड़ी को एक-एक करोड़ रुपये देने की घोषणा के साथ की और यह खिलाड़ियों का हक था जिन्हों पसीना बहा बहा कर यह लक्ष्य प्राप्त किया
परन्तु विभिन्न सरकारों और मुख्यमंत्रियों का बड़ चड़ कर खिलाड़ियों को सम्मानित करने और बेताहाशा पैसों और रिहायशी प्लॉटों की घोषणा करना कहाँ तक उचित होगा ?
जब की इन खिलाड़ियों के पास ईश्वर की कृपा और उन की मेहनत से वह सब कुछ है जिस की एक मावन इच्छा करता है।
जब कि वास्तविक्ता यह होती के हमारे विभिन्न राज्य सरकारें देश में मौजूद गरीबी, बेरोजगारी और महंगाई के खातमें के लिए योजना बनाती और और उन योजनाओं को मुस्तहिक लोगों तक पहुंचाने की सही निति अपनाती।
हमारे कुछ भाई यह कह सकते हैं कि गरीबी हटाओ बहुत सारी योजनाए चल रहीं हैं।
मैं भी इ…