संदेश

July, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

रमज़ान महीने का स्वागत कैसे करें ?

चित्र
कुछ दिनो के बाद वह पवित्र तथा बरकतों से भरा हुआ महीना आने वाला है जिस में अल्लाह तआला जन्नत के द्वार खोल देते हैं और जहन्नम के द्वार बंद कर देते हैं और अच्छे मानव अल्लाह से दुआ करते हैं, कि इस मुबारक रमज़ान महीने की बरकतों से लाभ उठाने की शक्ति प्रदान करे, इस लिए प्रत्येक मुस्लिम के लिए उचित है कि आने वाले पवित्र और पुण्य वाले महीने में ज़्यादा से ज़्यादा नेकी और पुण्य के कार्य करे, कोई समय नष्ट न करे, बल्कि रमज़ान महीने के एक एक पल को महत्वपूर्ण समझते हुए फर्ज़ नमाज़ को उसके असल समय में अदा करें, तरावीह और नफली नमाज़ें ज़्यादा से ज़्यादा पढ़े, बेकार के गपशप में समय बर्बाद न किया जाए, अल्लाह तआला की इबादत के साथ लोगों के कल्याण और भलाई का कर्म ज़्यादा से ज़्यादा किया जाए, पुण्य और भलाई के कार्य में बढ़ चढ़ कर भाग लिया जाए, ताकि जन्नत प्राप्त हो सके, अल्लाह तआला ने इसी की ओर उत्साहित किया है, ” जो लोग दूसरों पर बाज़ी ले जाना चाहते हों, वे इस चीज़ को प्राप्त करने में बाज़ी ले जाने का प्रयास करें।” (सूरः अल-मुतफ्फिफीनः 26)

इस महीने का स्वागत निम्नलिखित तरिके से हम कर सकते हैं।
ताकि हम अध…

शाबान के महीने में अल्लाह के पास बन्दों के आमाल पेश किये जाते हैं।

चित्र
शाबान अरबी महीने का आठवा महीना है जिसका अर्थ होता है कि लोगों का पानी को लिए एलग एलग स्थानों पर तलाशना या लोगों का गुफाओं में जाना,(ऐसा पूराने अरब वासी करते थे)
अल्लाह तआला ने लोगों को पुण्य प्रदान करने के लिए विभिन्न बहाना तालाशता है जिस के लिए उसने मानव को बहुत से कर्म और कार्य करने के लिए उत्साहित किया है। जो बन्दा बहुत ज़्यादा नफली इबादों के माध्यम से अल्लाह की कुर्बत और निकटतम चाहता है, अल्लाह उसे अपना सब से अच्छा भक्त बना लेता है और उसकी प्रत्येक प्रकार से मदद करता है और जीवन के हर मोड़ पर अल्लाह की सहायता उस के साथ होती है। रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने फरमाया कि अल्लाह तआला फरमता है। ” जो मेरे भक्तों से दुशमनी करता है, मैं उस से युद्ध की घोषणा करता हूँ और मुझे सब से अधिक प्रिय है कि मेरा बन्दा वह कार्य करे जिसे मैं उस के ऊपर अनिवार्य किया, और निरंतरण के साथ मेरा बन्दा नफली इबादतों के माध्यम से मेरी प्रसन्नता को तलाशता रहता है, यहां तक कि मैं उस से प्रेम करने लगता है और जब मैं उस से प्रेम करने लगता हूँ, ……..

नफली इबादतों में नफली रोज़े की एक एलग महत्वपूर्णता है, जिस …